मैं, लेखनी और जिंदगी

गीत, ग़ज़ल, बिचार और लेख

199 Posts

1310 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 10271 postid : 439

जिंदगी (ग़ज़ल)

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दिल के पास हैं लेकिन निगाहों से बह ओझल हैं
क्यों असुओं से भिगोने का है खेल जिंदगी।

जिनके साथ रहना हैं ,नहीं मिलते क्यों दिल उनसे
खट्टी मीठी यादों को संजोने का है खेल जिंदगी।

किसी के खो गए अपने, किसी ने पा लिए सपनें
क्या पाने और खोने का है खेल जिंदगी।

उम्र बीती और ढोया है, सांसों के जनाजे को
जीवन सफर में हँसने रोने का है खेल जिंदगी।

किसी को मिल गयी दौलत, कोई तो पा गया शोहरत
मदन बोले , काटने और बोने का ये खेल जिंदगी।

ग़ज़ल प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

bdsingh के द्वारा
August 22, 2013

कभी हंसाता,कभी रूलाता। हजार रंग में है उलझाता।। जीवन एक पतंग ,जिसकी डोर परमात्मा के हाथ

    Madan Mohan saxena के द्वारा
    August 23, 2013

    आपकी प्रतिक्रिया से संबल मिला.बहुत बहुत धन्यवाद

adityaupadhyay के द्वारा
August 21, 2013

ज़िन्दगी तराजू का खेल है यहाँ, किसी का पलड़ा भारी तो किसी का पलड़ा ही नहीं यहाँ……. न रो ही पाए यहाँ ,न हस ही पाए यहाँ… बस गुनगुनाते चले जा रहे हैं कभी यहाँ तो कभी वहाँ……..कुछ शब्द आपकी गज़ल के अनुरूप…..

    Madan Mohan saxena के द्वारा
    August 22, 2013

    सदैव मेरे ब्लौग आप का स्वागत है .प्रोत्साहन के लिए आपका हृदयसे आभार .

meenakshi के द्वारा
August 16, 2013

मदन जी ” जिंदगी ” पर . बहुत सुन्दर ग़ज़ल लिखी है आपने . मीनाक्षी श्रीवास्तव

AMAR LATA के द्वारा
May 30, 2013

NICE SHARING madan jee. simply superb. Good one. Plz visit my blog and give feedback.

Alka के द्वारा
May 13, 2013

मदन जी , सुन्दर रचना , किसी के खो गए अपने ,किसी ने पा लिए सपने , क्या पाने और खोने का है खेल जिन्दगी … बधाई …

shalinikaushik के द्वारा
May 10, 2013

जिनके साथ रहना हैं ,नहीं मिलते क्यों दिल उनसे खट्टी मीठी यादों को संजोने का है खेल जिंदगी। बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति .


topic of the week



latest from jagran